संत तुकडोजी महाराज पर निबंध 2021 | Great Sant Tukdoji Maharaj Information In Hindi

नमस्कार दोस्तों, इस पोस्ट में हम संत तुकडोजी महाराज पर निबंध यानी sant tukdoji maharaj information in hindi के बारे में चर्चा करने जा रहे हैं। sant tukdoji maharaj information in hindi हम इस निबंध को १००, २०० और ३०० शब्दों में सीखेंगे।

तो चलो शुरू करते ।

संत तुकडोजी महाराज पर निबंध | sant tukdoji maharaj information in hindi in 100,200 and 300 words

100 शब्दों में संत तुकडोजी महाराज पर निबंध | sant tukdoji maharaj biography in hindi in 100 words

तुकडोजी महाराज का काल 1909 से 1967 तक था। तुकड़ोजी महाराज राष्ट्रसंत के नाम से जाने जाते हैं। टुकडोजी महाराज ने अंधविश्वास को दूर करने और जातिवाद को मिटाने के लिए कीर्तन का प्रभावी उपयोग किया। तुकड़ोजी महाराज ने ग्राम गीता नामक एक कविता लिखी थी। उन्होंने लोगों को प्रबुद्ध करते हुए इस प्रकार के खंजीरी भजन का प्रयोग किया।

तुकडोजी महाराज का मूल नाम माणिक बंदोजी इंगले था। तुकड़ोजी महाराज के गुरु का नाम अदकोजी था। तुकडोजी महाराज मराठी और हिंदी बोलते थे। तुकड़ोजी महाराज आधुनिक समय के महान संत थे। तुकडोजी महाराज का जन्म अमरावती जिले के यवली में हुआ था। संत तुकड़ोजी महाराज कहते हैं “आप हर देश में हैं, आप हर भेष में हैं, आपका नाम कई है, आप एक हैं”।

200 शब्दों में संत तुकडोजी महाराज पर निबंध | sant tukdoji maharaj biography in hindi in 200 words

राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज महाराष्ट्र के एक आधुनिक संत, कवि और समाज सुधारक हैं। तुकडोजी महाराज का पूरा नाम माणिक बंदोजी इंगले था। उन्होंने अंधविश्वास और जातिगत भेदभाव को मिटाने के लिए भजन और कीर्तन का प्रभावी ढंग से इस्तेमाल किया। तुकड़ोजी महाराज आधुनिक समय के महान संत थे।

अदकोजी महाराज उनके गुरु थे।उन्होंने अपना मूल नाम माणिक अपने गुरु अदकोजी महाराज से बदलकर टुकडोजी कर दिया। यद्यपि विदर्भ में उनकी विशेष उपस्थिति थी, फिर भी वे न केवल महाराष्ट्र में बल्कि पूरे देश में आध्यात्मिक, सामाजिक और राष्ट्रीय एकता का संदेश फैला रहे थे। इतना ही नहीं उन्होंने जापान जैसे देश में जाकर सभी को सर्वदेशीयता का संदेश दिया। 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान उन्हें कुछ समय के लिए गिरफ्तार किया गया था। आते हैं नाथ हमारे वह पद था जिसकी रचना उन्होंने इस अवधि के दौरान की थी जो स्वतंत्रता संग्राम के लिए एक प्रेरणा थी।

इन राष्ट्रवादियों ने अपने लेखन में व्यसन की घोर निंदा की। तुकड़ोजी महाराज विवेकपूर्ण जीवन शैली के साथ एकेश्वरवाद की वकालत करते थे। अपने प्रभावी खंजीरी भजन के माध्यम से अपने जीवन की अंतिम सांस तक, उन्होंने अपनी इच्छित विचारधारा का प्रचार-प्रसार करते हुए आध्यात्मिक, सामाजिक और राष्ट्रीय जागरण किया।

राष्ट्रपति भवन में उनका खंजीरी भजन सुनने के बाद राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद ने तुकड़ोजी महाराज को राष्ट्रसंत के रूप में संबोधित किया। उन्होंने हिंदी के साथ-साथ मराठी में भी खूब लिखा। उनका साहित्य आज भी हमारा मार्गदर्शन कर रहा है, इसलिए यह देखना आसान है कि उनके साहित्य में अक्षर वांगमाया के मूल्य कैसे छिपे हैं।

इसे भी पढ़ें : Autobiography Of a Flower In Hindi

300 शब्दो में संत तुकडोजी महाराज पर निबंध | sant tukdoji maharaj information in hindi in 300 words

यह देखते हुए कि भारत गांवों का देश है, तुकड़ोजी महाराज का मानना था कि ग्रामीण विकास से राष्ट्र का विकास होगा। तुकडोजी महाराज का जन्म 30 अप्रैल 1990 को महाराष्ट्र के अमरावती जिले के यवली शहीद गांव में हुआ था। पंढरपुर के विठोबा उनके परिवार के कुल देवता हैं, उन्हें बचपन से ही ध्यान, भजन और पूजन का शौक था।

तीन साल की उम्र तक शिक्षा पूरी करने के बाद उन्होंने स्कूल छोड़ दिया। बाद में, उन्होंने कीर्तन भजनों के लिए कविताएँ लिखना शुरू किया। एक दिन गुरु महाराज ने उन्हें टुकड़े-टुकड़े करके बुलाया और कहा कि जाकर टुकड़े-टुकड़े करो। उन्होंने इस वाक्य के अंत में कई अभंग लिखे। इसलिए टुकडोजी को महाराज के नाम से जाना जाने लगा। वह लगातार इस बात को लेकर चिंतित रहता था कि हर वर्ग के लोगों को कैसे बचाया जाएगा।

संत तुकडोजी महाराज पर निबंध 2021 | Great Sant Tukdoji Maharaj Information In Hindi

ग्रामोनाट्टी और ग्रामकल्याण उनकी विचारधारा के केंद्र बिंदु प्रतीत होते थे। उन्हें भारत में गांवों की स्थिति का अच्छा अंदाजा था। इसलिए उन्होंने ग्रामीण विकास की विभिन्न समस्याओं का मूल विचार दिया और उन समस्याओं के समाधान के उपाय भी सुझाए। अमरावती के पास मोजरी में गुरुकुंज आश्रम की स्थापना तुकडोजी के जीवन में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। इसी प्रकार ग्राम गीता का लेखन उनके जीवन का एक बहुत ही महत्वपूर्ण चरण है। ग्राम गीता तुकड़ोजी महाराज की वद्मय सेवा की अगली सुविधा की तरह है।

उन्होंने ईश्वरविहीनता और पुराने जमाने के अंधविश्वासों को मिटाने के लिए अथक प्रयास किया। महिलोनत्ती भी तुकड़ोजी महाराज की विचारधारा का एक महत्वपूर्ण पहलू था। उन्होंने अपने कीर्तन के माध्यम से समाज को आश्वस्त किया कि परिवार व्यवस्था, सामाजिक व्यवस्था, राष्ट्रीय व्यवस्था महिलाओं पर निर्भर करती है। इसलिए उन्होंने बहुत प्रभावी ढंग से साबित किया कि महिलाओं को अज्ञानता और गुलामी में रखना कितना अज्ञान है।

देश के युवा राष्ट्र के भविष्य के स्तंभ होने चाहिए और उन्हें मजबूत होना चाहिए ताकि वे समाज और राष्ट्र की रक्षा कर सकें। तुकडोजी ने धर्मी और संस्कारी कैसे बनें, इस पर शिक्षाप्रद और शिक्षाप्रद लेख लिखे। टुकडोजी महाराज के साहित्य में सांसारिक और परलोक का सुन्दर मेल है। तुकड़ोजी महाराज के महान निर्वाण अश्विन कृष्ण पंचमी शेक 1890 (31 अक्टूबर, 1967)।

निष्कर्ष

दोस्तो अभी हमने आप को इस ब्लॉग में बताया sant tukdoji maharaj information in hindi । अगर आप इसी तरह की अन्य विषय पर निबंध के लिए हमे कॉमेंट करे। अगर यह विषय आप को पसंद आया हो तो उसके लिए भी हमें कमेंट करे।

Leave a Comment