संत ज्ञानेश्वर महाराज की जीवनी हिन्दी 2021 | Sant Dnyaneshwar Information In Hindi Language

नमस्ते दोस्तों ,आज हम इस पोस्ट में संत ज्ञानेश्वर महाराज की जीवनी अर्थात sant dnyaneshwar information in hindi language इसके बारे मे जानकारी लेंगे । sant dnyaneshwar in hindi अर्थात sant dnyaneshwar information in hindi यह निबंध हम 100 , 200 और 300 शब्दों में जानेंगे । तो चलिए शुरू करते है |

संत ज्ञानेश्वर महाराज की जीवनी हिन्दी | sant dnyaneshwar information in hindi in 100 , 200 and 300 words

संत ज्ञानेश्वर महाराज की जीवनी 100 शब्दों में | sant dnyaneshwar information in hindi language in 100 words

संत ज्ञानेश्वर महाराष्ट्र के महान संतों और कवियों में से एक थे। संत ज्ञानेश्वर का जन्म 1275 ई. में अपेगांव में हुआ था। संत ज्ञानेश्वर के पिता ने सन्यास लिया था। लेकिन बाद में उन्होंने परिवार संसार में फिर से प्रवेश किया और बाद में उन्हे चार बच्चे हुए, निवृति नाथ, ज्ञानदेव, सोपान और मुक्ताबाई।

संत ज्ञानेश्वर ने भावार्थदीपिका, अमृतानुभव, चांगदेवसष्टी, हरिपंथ के अभंग जैसी कविताओं की रचना की। उन्होंने मराठी भाषा को सर्वंश्रेष्ठ गौरव और अभिमान पहना दीया है,

“ज्ञानेश्वरी” उन्होंने ज्ञानेश्वरी में 9000 कविताएँ लिखी हैं। माना जाता है कि यह ग्रंथ वर्ष 1290 ई. में लिखा गया था। उन्होंने 21 वर्ष की अल्पायु में आलंदी में इंद्रायणी नदी के तट पर संजीवन समाधि प्राप्त की।

संत ज्ञानेश्वर महाराज की जीवनी 200 शब्दों में | sant dnyaneshwar information in hindi language in 200 words

संत ज्ञानेश्वर अलौकिक प्रतिभा और दूसरे व्यक्तित्व वाले तेरहवीं शताब्दी के महान संतों में से एक थे। संत ज्ञानेश्वर का जन्म 1275 ई. में माता रुक्मिणी बाई के यहाँ अपेगांव (औरंगाबाद जिले) में हुआ था।

ज्ञानेश्वर के पिता विट्ठलपंत ने सन्यास ले लिया था और गृहस्थश्रम लौट आए थे। गृहस्थश्रम में प्रवेश करने के बाद, उनके चार बच्चे हुए, निवृत्ती, ज्ञानदेव, सोपान और मुक्ताबाई। उस समय के समाज ने विट्ठल पंत और उनके पूरे परिवार को सताया था। सन्यास के बच्चों के रूप में, उन्हें समाज द्वारा त्याग दिया गया था। संत ज्ञानेश्वर ने कम उम्र से ही बदनामी पर ध्यान दिए बिना आध्यात्मिक प्रगति की।

संत ज्ञानेश्वर ज्ञान के प्रतिमूर्ति थे। संत ज्ञानेश्वर विट्ठल के भक्त थे। सोलह वर्ष की अल्पायु में ज्ञानेश्वर ने मराठी में सर्वश्रेष्ठ अनूठी पुस्तक ज्ञानेश्वरी की रचना की। ज्ञानेश्वरी को भावार्थदीपिका भी कहा जाता है। ज्ञानेश्वर ने संस्कृत भाषा के ज्ञान को ज्ञानेश्वरी के माध्यम से प्राकृत भाषा में पहुँचाया। ज्ञानेश्वरी जीवन के सभी क्षेत्रों के लोगों को आकर्षित करती है। ज्ञानेश्वरी में लगभग ९००० कविताओं में भक्तिमय नमी की प्रचुरता अतुलनीय है।

अनुभव अमृतानुभव, ज्ञानसूर्य संत ज्ञानेश्वर के दर्शन में सर्वश्रेष्ठ पुस्तक, एक स्व-लिखित पुस्तक है। इसमें 800 अंडाशय अपनी प्रतिभा की गहराई को व्यक्त करते हैं। ऐसे समृद्ध और अनुभवी अभंग हरिपथ की रचना कर संत ज्ञानेश्वर ने मराठी का गौरव बढ़ाया। ज्ञानेश्वर का हरिपथ श्रेष्ठ दिव्य स्मरण का नाम है।

ज्ञानेश्वरी के अंतिम अध्याय में ज्ञानदेव ने विश्व के कल्याण के लिए प्रार्थना लिखी है। संत ज्ञानेश्वर ने अपनी किसी भी रचना में समाज द्वारा अपने परिवार पर किए गए अत्याचारों को महसूस नहीं किया है। ऐसे महापुरुषों ने सोलह वर्ष की आयु में आलंदी में इन्द्रायणी नदी के तट पर संजीवनी समाधि ली। तेरहवीं शताब्दी में ज्ञानेश्वर के काम को देखकर हर कोई हैरान है।

संत ज्ञानेश्वर के नाम पर शिक्षण संस्थान, स्कूल, आश्रम और स्कूल स्थापित किए गए हैं। प्रभात कंपनी ने संत ज्ञानेश्वर के जीवन पर एक फिल्म बनाई और ज्ञानेश्वर के काम को पूरी दुनिया में फैलाया। संत ज्ञानेश्वर महाराष्ट्र के एक महान संत थे और उनके महत्व का वर्णन करने के लिए शब्द पर्याप्त नहीं होंगे।

संत ज्ञानेश्वर महाराज की जीवनी 300 शब्दों में | sant dnyaneshwar information in hindi language in 300 words

ज्ञानेश्वर संत ज्ञानेश्वर महाराष्ट्र का एक अनमोल रत्न है। संत ज्ञानेश्वर महाराष्ट्र के सांस्कृतिक जीवन में परमार्थ के क्षेत्र में एक अद्वितीय व्यक्तित्व और अलौकिक चरित्र हैं। उनका जन्म अपेगांव में मध्यरात्रि श्रवण कृष्ण अष्टमी ईस्वी 1275 ईस्वी में अलंदी में हुआ था। उनके पिता का नाम विट्ठलपंत कुलकर्णी और माता का नाम रुक्मिणी था।

उनके बड़े भाई निवृतिनाथ और छोटे भाई सोपान और मुक्ताबाई उनके भाई-बहन हैं। उनके पिता मूल रूप से एक तपस्वी थे। सन्यास स्वीकारने के बाद, उन्होंने गुरु के आदेश पर गृहस्थाश्रम में फिर से प्रवेश किया। तब उनके चार बच्चे हुए। निवृतिनाथ ज्ञानदेव अपने चार बच्चों के साथ सोपान और मुक्ताबाई को विट्ठलपंत की तीर्थ यात्रा पर ले गए और अलंदी में बस गए।

संत ज्ञानेश्वर महाराज की जीवनी हिन्दी 2021 | Sant Dnyaneshwar Information In Hindi Language

उस समय सारा समाज इन चारों भाई-बहनों को सन्यास की सन्तान मानता था। एक परित्यक्त ब्राह्मण के रूप में, उन्हें लंबे समय तक सहना पड़ा। जैसे विट्ठलपंत और उनकी पत्नी को कष्ट सहना पड़ा, उन्होंने आलंदी की ब्रह्म सभा से भी हमारे बच्चों को जाति देने का अनुरोध किया ताकि उनके बच्चों को कष्ट न उठाना पड़े। ज्ञानेश्वर ने निवृतिनाथ को अपना गुरु मानकर निवृतिनाथ से दीक्षा ली थी।

सभी एक झोपड़ी में रहने लगे और योग और ध्यान करने लगे। लेकिन आलंदी में कुछ लोगों ने उन्हें खूब प्रताड़ित किया। हालाँकि, भाई-बहन खुश थे। ज्ञानेश्वर ने गुरु अर्थात निवृतिनाथ के आशीर्वाद से भगवद गीता पर एक प्रसिद्ध भाष्य लिखा। सात सौ साल बाद भी यह किताब लोकप्रिय है। इस ग्रंथ का नाम भवार्थदीपिका है। ज्ञानेश्वरी के माध्यम से उन्होंने संस्कृत भाषा के ज्ञान को प्राकृत भाषा में पहुँचाया।

उन्होंने मराठी भाषा में अपना गौरव व्यक्त करते हुए कहा है, “मेरी मराठी भाषा “कौतुके परी अमृततेही पैजा जिन्के”। ज्ञानेश्वरी में लगभग नौ हजार कविताएँ हैं। माना जाता है कि यह पाठ 1290 में लिखा गया था। उनकी दूसरी पुस्तक अमृतानुभव एकता के शुद्ध दार्शनिक जीवन का ग्रंथ है यह ग्रंथ लगभग आठ सौ श्लोकों का है। उल्लेखनीय है कि उस समय के समाज ने ज्ञान के देवता सहित सभी भाई-बहनों के साथ बहुत अन्याय किया, लेकिन उनके साहित्य में उस अन्याय की कोई प्रतिक्रिया नहीं है।

वारकरी संप्रदाय सहित सभी भक्तों द्वारा संत ज्ञानेश्वर को प्यार से मौली के नाम से जाना जाता है। ज्ञानदेव और अध्यात्म के क्षेत्र में समानता स्थापित कर धर्म की पेचीदगियों को दूर कर धर्म को कर्तव्य का एक अलग अर्थ दिया गया है। ज्ञानेश्वर ने आलंदी में इंद्रायणी नदी के तट पर वर्ष 1296 ई. में संजीवन समाधि की थी।

निष्कर्ष

आज हमने इस पोस्ट में संत ज्ञानेश्वर महाराज की जीवनी अर्थात sant dnyaneshwar information in hindi language इसके बारे मे जानकारी ली । sant dnyaneshwar in hindi अर्थात sant dnyaneshwar information in hindi यह निबंध हम 100 , 200 और 300 शब्दों में जान लिया । अगर आपको इस पोस्ट और वेबसाईट के बारे मे कोई भी शंका हो तो आप हमे कमेन्ट बॉक्स मे कमेन्ट करके बता सकते हो । और यह पोस्ट शेयर करना ना भूले ।

अगर आप ब्लॉगिंग यह मराठी मे अर्थात Blogging In Marathi सीखना चाहते हो तो मराठी जीवन इस वेबसाईट को जरूर विजिट करे ।

Leave a Comment

x