समाजसुधारक पर निबंध 2021 | Samaj Sudharak Essay In Hindi

नमस्कार दोस्तों, इस पोस्ट में हम अपने पसंदीदा समाजसुधारक पर निबंध यानी samaj sudharak essay in hindi चर्चा करने जा रहे हैं। इस विषय पर हम आप को १००, २०० और ३०० शब्दों में निबंध लिख कर दूंगा।

तो चलो शुरू करते हैं।

समाजसुधारक पर निबंध | samaj sudharak essay in hindi in 100,200 and 300 words

100 शब्दों में समाजसुधारक पर निबंध | hindi essay on samaj sudharak in 100 words

महात्मा ज्योतिबा फुले का पूरा नाम ज्योतिराव गोविंदराव फुले था। उन्हें महात्मा फुले के नाम से जाना जाता है। उनके पिता का नाम गोविंदराव और माता का नाम चिमनबाई था। जोतिराव केवल नौ महीने के थे, तभी उनकी मां का देहांत हो गया। 13 साल की उम्र में उनका विवाह सावित्रीबाई से हो गया। प्राथमिक शिक्षा के बाद उन्होंने कुछ समय के लिए सब्जियां बेचना शुरू किया।

महात्मा फुले ने अपनी तेज बुद्धि के कारण यह कोर्स पांच-छह साल में पूरा किया। महात्मा फुले थॉमस पायने से प्रभावित थे 1791 में, थॉमस पायने द्वारा मानव अधिकारों पर एक पुस्तक महात्मा फुले द्वारा पढ़ी गई थी। वह सामाजिक न्याय के विचार से प्रभावित थे।

इसलिए उन्होंने असमानता को खत्म करने के लिए पिछड़ी जाति के लड़कों और लड़कियों की महिलाओं की शिक्षा और शिक्षा पर ध्यान केंद्रित करने का फैसला किया। 1863 में, शिशु हत्या की रोकथाम की स्थापना की गई थी। 24 सितंबर, 1873 को चली सत्यशोधक समाज की स्थापना की। लोगों ने उन्हें महात्मा की उपाधि से नवाजा।महात्मा फुले पहले भारतीय थे जिन्होंने स्वतंत्र रूप से केवल महिलाओं के लिए एक स्कूल की स्थापना की।

200 शब्दों में समाजसुधारक पर निबंध | hindi essay on samaj sudharak in 200 words

स्वराज्य मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है, और मैं उसे हसील करके राहूंगा।लोकमान्य तिलक नाम, जो दहाड़ता हुआ सिंह की ललकार , वह हमारी आंखों के सामने आती है। यही कारण है कि उन्हें स्वतंत्रता संग्राम में एक चरमपंथी नेता के रूप में जाना जाता है। तिलक का जन्मस्थान रत्नागिरी में चिखली है। अपने पिता की मृत्यु के बाद, वे पुणे में बस गए और यहीं से अगला स्वतंत्रता संग्राम शुरू किया।

वह उच्च शिक्षित थे लेकिन अंग्रेजों के साथ नौकरी न करते हुए उन्होंने खुद को भारत के स्वतंत्रता संग्राम में शामिल कर दिया। उन्होंने जनता के बीच स्वतंत्रता के बारे में जागरूकता फैलाना शुरू कर दिया। अंग्रेज उनसे इस कदर डरते थे कि उन्होंने उन्हें कैद कर लिया। और मंडाले में छह साल के लिए जेल भेज दिया।

ब्रिटिश सरकार उन्हें असंतोष का जनक कहने लगी। लेकिन उनोने हार नही मानी। उन्होंने वहीं गीतारहस्य पुस्तक भी लिखी और यहां देश के लिए अपनी सेवा जारी रखी। अंग्रेजों को लोगों के अनुरोध पर उन्हें रिहा करना पड़ा। यही से वो स्वतंत्रता आंदोलन के मुख्य आधार बन गये। उनकी सभाओं में बहुत भीड़ होने लगी।

लोगों ने उन्हें लोकमान्य की उपाधि दी और अपने अखबार केसरी से उन्होंने अंग्रेजों की निंद हराम कर दि। छह साल जेल में बिताने के बाद वह थोड़ा थक गये थे। दिन-रात सेवा कार्य और सभाओं के कारण स्वास्थ्य पर ध्यान देने के लिए समय की कमी के कारण वह बीमार पड़ गए। 1 अगस्त 1920 को उनका निधन हो गया। इस स्वतंत्रता संग्राम में अपना पूरा जीवन लगाने वाले वीर और सच्चे देशभक्त को मेरा सलाम।

इसे भी पढ़े : Kisan Ki Atmakatha Essay In Hindi

300 शब्दो में समाजसुधारक पर निबंध | samaj sudharak essay in hindi in 300 words

डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को मध्य प्रदेश के इंदौर जिले के एक सैन्य शिविर महू गाँव में हुआ था। उनका पूरा नाम डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर है। लेकिन उन्हें डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर के नाम से जाना जाता है। उनके पिता का नाम रामजी और माता का नाम भीमाबाई था। उनके पिता ब्रिटिश भारतीय सेना में सेवारत थे। और वहां उन्होंने मराठी और अंग्रेजी का अध्ययन किया। डॉ. अम्बेडकर की माँ का देहांत तब हो गया था जब वे पाँच वर्ष के थे।

समाजसुधारक पर निबंध 2021 | Samaj Sudharak Essay In Hindi

चूँकि उनका परिवार दलित जाति का था जिसे उस समय अछूत माना जाता था, इसलिए उन्हें कई बार अन्य जातियों के लोगों के खिलाफ सामना करना पड़ा। बाबा साहेब के पिता यानी रामजी हमेशा उनके भीमराव पर नजर रखते थे ताकि उनके उपर अच्छे संस्कार हो सके। उन्होंने हमेशा बाबा साहब को बेहतरीन किताबें पढ़ने दीं। हम बाबासाहेब में उनके जीवन के अंतिम क्षण तक पढ़ने और पढ़ने की आदत देखते हैं। बाबा साहब के मुंबई के उनके घर में 50,000 से अधिक पुस्तकें हैं और उन्होंने एक उत्कृष्ट पुस्तकालय का निर्माण किया है।

1906 में उन्होंने दापोली की रमाबाई से शादी की। 1907 में, उन्होंने मुंबई विश्वविद्यालय की मैट्रिक की परीक्षा सफलतापूर्वक उत्तीर्ण की। 1912 में, उन्होंने उसी मुंबई विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान और अर्थशास्त्र में बीएच की डिग्री प्राप्त की। अम्बेडकर ने बाद में कोलंबिया विश्वविद्यालय और लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स दोनों से अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की। उन्हें हर क्षेत्र की पूरी जानकारी और समज थी। उन्हें उच्च शिक्षा के लिए भी संघर्ष करना पड़ा। संघर्ष से लड़कर उन्होंने खुद को साबित किया।

डॉ. अम्बेडकर ने सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक, शैक्षिक और धार्मिक क्षेत्रों में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने दिन-रात अध्ययन किया और भारत के संविधान का मसौदा तैयार किया। उन्होंने लोगों को शिक्षा के महत्व और कर्तव्य से अवगत कराते हुए कहा कि शिक्षा समाज में बदलाव का हथियार है। 1990 में, उन्हें मरणोपरांत भारत रत्न, भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इस महापुरुष ने ६ दिसंबर १९५६ को अंतिम सांस ली। और अपने काम की छाप छोड़ी। उन्होंने भारत के लिए जो महान काम किया उसे कभी भुलाया नहीं जा सकेगा।

निष्कर्ष

दोस्तो अभी मैं आप को बताया samaj sudharak essay in hindi। अगर आप को यह विषय पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तो के साथ भी शेयर करे। और अगर इसी samaj sudharak essay in hindi विषय की तरह अन्य विषय पर निबंध चाहते है तो उसके लिए हमे कमेंट करे।

Leave a Comment

x