रक्षाबंधन पर निबंध हिन्दी 2021 | Raksha Bandhan Essay In Hindi

नमस्ते दोस्तों ,आज हम इस पोस्ट में रक्षाबंधन पर निबंध अर्थात raksha bandhan essay in hindi इसके बारे मे जानकारी लेंगे । essay on raksha bandhan in hindi अर्थात raksha bandhan par nibandh यह निबंध हम 100 , 300 और 500 शब्दों में जानेंगे । तो चलिए शुरू करते है |

रक्षाबंधन पर निबंध हिन्दी | essay on raksha bandhan in hindi in 100 , 300 and 500 words

रक्षाबंधन पर निबंध हिन्दी 100 शब्दों में | raksha bandhan essay in hindi in 100 words

हिंदू धर्म के अनुसार, रक्षाबंधन श्रावण पूर्णिमा को मनाया जाता है। इस दिन बहन अपने भाई के दाहिने हाथ की कलाई पर राखी बांधती है। उन्होंने अपने भाई का हाथ हिलाया और उनकी लंबी उम्र और खुशियों के लिए प्रार्थना की। भारतीय परंपरा में राखी को लोहे की जंजीर से ज्यादा मजबूत माना जाता है। क्योंकि राखी भाई-बहन के पवित्र बंधन को बांधती है।

यह धागा कई मनों को जोड़ता है, उन्हें जीवंत करता है और उन्हें भावनाओं की नमी देता है। रक्षाबंधन प्रेम और आस्था का प्रतीक है। गरीब बहन को भाई के हाथ में धागा बांधना चाहिए, अमीर बहन द्वारा भाई को सोने की राखी बांधनी चाहिए, या नए जमाने में बहन द्वारा ऑनलाइन भेजी गई राखी। इसके पीछे बस एक ही एहसास है भाई-बहन का प्यार। मौजूदा तनावपूर्ण समय में हर कोई व्यस्त है।

लेकिन रक्षाबंधन यह सब एक साथ लाता है। इस राखी पूर्णिमा का संदेश यह है कि वृत्ति रखने वाला समाज शक्तिशाली बनता है। और यह त्यौहार किसी अन्य धर्म में नहीं मनाया जाता है।युवा से लेकर बूढ़े तक सभी लोग इस त्योहार को हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं।

रक्षाबंधन पर निबंध हिन्दी 300 शब्दों में | raksha bandhan essay in hindi in 300 words

रक्षाबंधन भाई-बहन के प्यार का बंधन है। भारतीय संस्कृति में त्योहारों का विशेष महत्व है। भारत में विभिन्न त्योहारों को बहुत उत्साह के साथ मनाया जाता है। रक्षाबंधन हिंदू त्योहारों में से एक है। यह पर्व भाई-बहन के पवित्र बंधन का पर्व है। रक्षाबंधन हर साल श्रावण पूर्णिमा को मनाया जाता है। यह मुख्य रूप से अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार अगस्त के महीने में आता है।

यह त्योहार शक्ति, प्रेम और रोमांच का मेल है। भाई-बहन का प्यार निस्वार्थ और दुनिया के रिश्तों में पवित्र माना जाता है। रक्षाबंधन के दिन बहनें भाई को राखी बांधती हैं। राखी बांधने से पहले वह इसे अपने भाई के माथे पर मलती हैं। यह एक संकेत है कि वह अपने भाई को दुनिया को सामान्य तरीके से देखे बिना भावनात्मक रूप से दुनिया को देखने के लिए एक पवित्र दृष्टि देती है।

इसके बाद बहन भाई के हाथ में राखी बांधती है और कुल्हाड़ी मारती है। वह प्रार्थना करता है कि उसका भाई बाहरी शत्रुओं से सुरक्षित रहेगा और विकारों को समाप्त करेगा और वह अपना जीवन जीतेगा और एक लंबा जीवन जीएगा। भाई को समाज में अपनी बहन का ख्याल रखना चाहिए। रक्षाबंधन का यह पर्व सिर्फ भाई-बहनों तक ही सीमित नहीं है। तो यह गुरु-शिष्य, माता-पिता, चचेरे भाई-भाई, माना भाई-बहन आदि के संबंधों में मनाया जाता है। संक्षेप में, रक्षाबंधन शहर को आज अन्य संबंधों में विस्तारित होते हुए देखना सुखद है।

बच्चे माता-पिता को राखी बांधते हैं और उसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी लेते हैं। शिष्य गुरु को राखी बांधते हैं और उनके विचारों की रक्षा की जिम्मेदारी लेते हैं। राखी अब पेड़ों से बंधी है। ताकि वनों की कटाई कम हो और वृक्ष प्रेम बढ़े। आज विज्ञान और प्रौद्योगिकी के युग में रक्षाबंधन के पावन पर्व का एक अलग ही अस्तित्व है। यह त्योहार समाज में युवा से लेकर बूढ़े तक मनाया जाता है। राखी का धागा सिर्फ एक धागा नहीं है, यह विनय, स्नेह और संयम का बंधन है। यह कहते हुए हर्ष हो रहा है कि इस सूत्र के साथ अनेक मन एक साथ आते हैं।

चाहे गरीब बहन ने भाई को धागा बांधा हो, अमीर बहन द्वारा भाई को सोने या चांदी की राखी बांधी हो, या आज के टेक्नोलॉजी के जमाने में इंटरनेट के जरिए भेजी राखी हो, सभी में भाई-बहन के प्यार का अहसास एक जैसा होता है। इस दिन घर में मीठे व्यंजन बनाने का प्लान होता है। इस दिन को नारली पूर्णिमा भी कहा जाता है इसलिए इस दिन मीठे नारियल चावल बनाने की प्रथा है। इस प्रकार यह पर्व केवल भाई-बहनों का ही नहीं बल्कि पूरे परिवार का है।आज के बढ़ते हुए तकनीकी युग में इस पर्व का विशेष महत्व है।

रक्षाबंधन पर निबंध हिन्दी 500 शब्दों में | raksha bandhan essay in hindi in 500 words

. रक्षाबंधन भारत में एक बहुत ही लोकप्रिय त्योहार है। यह पर्व श्रावण मास की नारियल पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। ये भारत के विभिन्न हिस्सों में अलग-अलग नाम हैं जैसे नारली पूर्णिमा, राखी पूर्णिमा, गजरी पूर्णिमा आदि। रक्षाबंधन भाई-बहनों का त्योहार है। रक्षाबंधन उनके हाथों में सुरक्षा का पवित्र धागा है।

रक्षाबंधन बहन और भाई के अविभाज्य नाटक का पवित्र बंधन है। रक्षाबंधन के दिन बहन भाई के हाथ में राखी बांधती है और प्यार से भाई का दिल जीत लेती है। रक्षाबंधन कौशल, प्रेम, रोमांच या संयम का मेल है। दुनिया के सभी रिश्तों में भाई-बहन का प्यार निस्वार्थ और पवित्र होता है। भारतीय संस्कृति मानव जीवन की महानता की अभिव्यक्ति है। एक भारतीय संस्कृति है जो महिलाओं को वस्तु मानकर उनकी पूजा करती है। रक्षाबंधन दृष्टि परिवर्तन का पर्व है। जैसे ही बहन हाथ पर राखी बांधती है, भाई की दृष्टि बदल जाती है।

रक्षाबंधन पर निबंध हिन्दी 2021 | Raksha Bandhan Essay In Hindi

वह अपनी बहन की सुरक्षा की जिम्मेदारी लेता है ताकि समाज में उसका सम्मान किया जा सके। लेकिन आज उसे अपने भाइयों को समझाने की जरूरत है जो उसका मजाक उड़ाते हैं और उसके साथ जानवर जैसा व्यवहार करते हैं। इस दिन बहन भाई के माथे पर तिलक करती है और कलाई पर राखी बांधती है। लहराता हुआ भाई भाई के सुखी स्वस्थ, सुखी दीर्घायु की कामना करता है। इस दिन भाई अपनी बहन की रक्षा करने का वचन देता है। हर भाई-बहन के लिए इस पर्व का बहुत महत्व है। इस दिन बहन भाई को मिठाई देती है और भाई बहन को उपहार देता है।

इस त्योहार के पीछे एक कहानी यह भी है कि महाभारत में कृष्ण ने हमेशा अपनी बहन के रूप में द्रौपदी की रक्षा की थी, जबकि द्रौपदी ने शिशुपाल का वध किया था, इसलिए जब कृष्ण की उंगली घायल हो गई, तो उन्होंने अपनी साड़ी का एक टुकड़ा फाड़ दिया और घाव पर बांध दिया।

राखी बांधने से पहले बहन भाई के माथे पर टीला लगाती है, यह न केवल भाई के माथे की पूजा करने के लिए है, बल्कि उसके विचारों और बुद्धि में विश्वास दिखाने के लिए भी है। यह क्रिया इंगित करती है कि एक पवित्र तीसरी आंख बहन त्रिलोचन को अपने भाई को भावनात्मक दृश्य दुनिया को सामान्य रूप से देखे बिना दुनिया को देखने के लिए देती है। भगवान शिव ने तीसरा नेत्र खोलकर मदन को भस्म कर दिया था।

इसी प्रकार बहन अपनी आँख के रूप में भाई को रोग, वासना आदि का भक्षण करने का निर्देश देती है। बहन अपने भाई के हाथ पर राखी बांधकर न केवल अपनी सुरक्षा चाहती है, बल्कि सभी जातियों की रक्षा भी मांगती है। यह भी भाव है कि आपका भाई विजयी होगा या बाहरी शत्रुओं से सुरक्षित होगा और विकारों को समाप्त करेगा। रक्षा बंधन सुरक्षा का एक स्मारक है। राखी एक ऐसा बंधन है जिसे हम याद रखने के लिए बाध्य हैं।राखी हमें बिना पीछे छूटे इस लक्ष्य की ओर बढ़ने की याद दिलाती है।

राखी बांधते समय यह भाई-बहनों के बीच के बंधन की रक्षा करने का सुझाव देता है। हमने परिवार को भारतीय संस्कृति के सबसे अच्छे त्योहार तक सीमित कर दिया है जो उसे विकृत तरीके से देखे बिना उसके प्रति शुद्ध नजर रखने का महान संदेश देता है। इस तरह के खूबसूरत प्यार और भावनाओं के उत्सव को परिवार तक सीमित रखना उचित नहीं है। बहन की आंखें शुद्ध होनी चाहिए और भाई से प्यार बना रहना चाहिए। रक्षाबंधन का अर्थ है कि भाई बहन की सुरक्षा की जिम्मेदारी लेता है। रक्षाबंधन महिलाओं के प्रति हमारे नजरिए में बदलाव है।

रक्षाबंधन भारतीय संस्कृति का एक अमूल्य उपहार है जो यह संदेश देता है कि बहनें और भाई परस्पर सहायक, पोषक और पूरक हैं। आज बाजार में कई तरह के राखे उपलब्ध हैं। रक्षाबंधन को हर कोई अपने-अपने तरीके से खरीदता है। राखी आज इंटरनेट के जरिए ऑनलाइन भेजी जाती है। रक्षाबंधन प्रेम का प्रतीक है रक्षाबंधन एक अटूट विश्वास रक्षाबंधन भाई बहन का बंधन है।

निष्कर्ष

आज हमने इस पोस्ट में रक्षाबंधन पर निबंध अर्थात raksha bandhan essay in hindi इसके बारे मे जानकारी ली । essay on raksha bandhan in hindi अर्थात raksha bandhan par nibandh यह निबंध हम 100 , 300 और 500 शब्दों में जान लिया । अगर आपको इस पोस्ट और वेबसाईट के बारे मे कोई भी शंका हो तो आप हमे कमेन्ट बॉक्स मे कमेन्ट करके बता सकते हो । और यह पोस्ट शेयर करना ना भूले ।

अगर आप ब्लॉगिंग यह मराठी मे अर्थात Blogging In Marathi सीखना चाहते हो तो मराठी जीवन इस वेबसाईट को जरूर विजिट करे ।

Leave a Comment

x