प्रदूषण की समस्या पर निबंध 2021 | Pradushan Ki Samasya Par Nibandh

दोस्तों आज हम इस ब्लॉग में पढ़ने जा रहे हैं कि प्रदूषण की समस्या पर निबंध यानि pradushan ki samasya par nibandh । इस विषय पर हमारे स्कूल में निबंध अक्सर दिए जाते हैं। essay in hindi on pradushan ek samasya मैं इस निबंध को यहां 100, 300 और 500 शब्दों में दूंगा। यदि आपको आपके विद्यालय द्वारा इस विषय पर निबंध लिखने के लिए कहा गया है, तो आप इस ब्लॉग से लिख सकते हैं।

प्रदूषण की समस्या पर निबंध | pradushan ki samasya par nibandh in 100,300 and 500 words

100 शब्दों में प्रदूषण की समस्या पर निबंध | pradushan ek samasya essay in hindi in 100 words

प्रदूषण हमारी धरती के लिए खतरा बनता जा रहा है। प्रदूषण कई बीमारियों का कारण बनता है जिनके बारे में हम नहीं जानते हैं। प्रदूषण दो प्रकार का होता है पहला जल प्रदूषण और दूसरा वायु प्रदूषण। ये दोनों प्रदूषक पृथ्वी पर सभी जानवरों के लिए एक समस्या बनते जा रहे हैं। प्रदूषण हमारी पृथ्वी के वायुमंडल को खराब करता है।

पृथ्वी की ओजोन परत प्रदूषण के कारण क्षीण होती हुई प्रतीत होती है, जिसके कारण सूर्य की किरणें सीधे पृथ्वी पर पड़ती हैं, जिससे पृथ्वी के निवासियों के लिए कई समस्याएं उत्पन्न होती हैं। वायु प्रदूषण से इंसानों, जानवरों और पक्षियों के लिए सांस लेना मुश्किल हो जाता है। जल प्रदूषण कई बीमारियों और जानलेवा बीमारियों जैसे मलेरिया, हैजा आदि का कारण बनता है। वायु प्रदूषण भी अस्थमा जैसी कई बीमारियों का कारण बनता है। . इसलिए प्रदूषण पृथ्वी के लिए एक समस्या बनता जा रहा है।

300 शब्दों में प्रदूषण की समस्या पर निबंध | pradushan ek samasya essay in hindi in 300 words

प्रदूषण पृथ्वी पर लोगों के लिए एक समस्या बनता जा रहा है। प्रदूषण से सभी जानवरों को बहुत कम नुकसान होता है। कंपनियों से प्रदूषण ज्यादा है। प्रदूषण कई कारणों से फैलता है। प्रदूषण दो प्रकार का होता है पहला जल प्रदूषण और दूसरा वायु प्रदूषण। प्रदूषण पृथ्वी की ओजोन परत को नष्ट कर रहा है, जिससे सूर्य की खतरनाक किरणें सीधे पृथ्वी पर पड़ रही हैं, जिससे पृथ्वी पर जीवन को नुकसान हो रहा है।

कंपनियों से निकलने वाले जहरीले पदार्थों से जल प्रदूषण बढ़ रहा है। यह प्रदूषण मलेरिया, हैजा और डेंगू जैसी कई बीमारियों का कारण बनता है। यह रोग गंदे पानी में मच्छरों के पनपने से होता है। जब गंदे पानी में मच्छर बनते हैं तो उनके काटने से ऐसी बीमारियां होती हैं। प्रदूषण फैलाने वाली कंपनी के जहरीले धुएं और धुएं वातावरण में और हमारे ऑक्सीजन में आते हैं, जिसका अर्थ है कि यह वातावरण में सभी गैसों में चला जाता है, जिससे वायु प्रदूषण बहुत तेजी से फैलता है। जल प्रदूषण हो या वायु प्रदूषण, शहरी क्षेत्रों में इनकी संख्या बढ़ रही है क्योंकि पृथ्वी पर हमारे प्रदूषणकारी गांवों में ऐसी कई कंपनियां नहीं हैं।

शहरी क्षेत्रों में वायु प्रदूषण भी तेजी से बढ़ रहा है क्योंकि इतनी सारी कंपनियां हैं, इनसे निकलने वाला धुआं बहुत जहरीला होता है। जो हमारी गैसों के साथ हमारे वातावरण में मिल जाती है और हमारी गैसों को दूषित कर देती है। प्रदूषण ने इतनी सारी समस्याएं पैदा कर दी हैं कि पृथ्वी पर इंसानों को भी पता नहीं है कि ऐसी समस्याएं बढ़ रही हैं।

इन सब प्रदूषण के साथ-साथ ध्वनि प्रदूषण भी बहुत तेजी से फैल रहा है और यह कई लोगों की जान ले रहा है। डीजे और गाने बहुत तेजी से बजाने से वायु प्रदूषण फैल रहा है, जिससे आसपास के क्षेत्र में दिल का दौरा पड़ने वाले मरीज को दिल का दौरा पड़ सकता है और उसकी मौत हो सकती है। इसके अलावा, सड़क पर दौड़ रही कारों के हॉर्न की तुलना में ध्वनि प्रदूषण तेजी से बढ़ रहा है।

सड़क के किनारे रहने वाले कई लोगों को रात को नींद न आना, दिल का दौरा और दिल की समस्या जैसी समस्याएं होती हैं। ध्वनि प्रदूषण बहुत सारी समस्याएँ पैदा कर रहा है।ऐसी समस्याओं को नज़रअंदाज कर हम बहुत तेजी से पृथ्वी पर प्रदूषण फैला रहे हैं, जो पृथ्वी पर सभी लोगों के लिए समस्याएँ पैदा करेगा।

इसे भी पढ़ें: Corruption Essay In Hindi

500 शब्दों में प्रदूषण की समस्या पर निबंध | pradushan ki samasya par nibandh In 500 words

प्रदूषण कोई समस्या नहीं एक अभिशाप है प्रदूषण के कारण लाखों लोग अपनी जान गंवा रहे हैं। प्रदूषण पृथ्वी पर बहुत तेजी से फैल रहा है। इससे लोगों को कई तरह की बीमारियां हो रही हैं। प्रदूषण तीन प्रकार का होता है, पहला जल प्रदूषण, दूसरा वायु प्रदूषण और तीसरा ध्वनि प्रदूषण।

जल प्रदूषण कंपनियों से निकलने वाले जहरीले पदार्थों और रसायनों के कारण होता है।जल प्रदूषण जल प्रदूषण के कारण मलेरिया, हैजा, डेंगू आदि कई तरह की बीमारियां बहुत तेजी से फैल रही हैं। वायु प्रदूषण भी जल प्रदूषण के कारण होता है वायु प्रदूषण का सबसे बड़ा कारण आज की बढ़ती कंपनियाँ और फैक्ट्रियाँ हैं क्योंकि जब उनसे जहरीला धुआँ हमारे वातावरण में गैसों में जाता है, तो वे वहाँ की शुद्ध गैसों को भी प्रदूषित करते हैं।

प्रदूषण की समस्या पर निबंध 2021 | Pradushan Ki Samasya Par Nibandh

वायु प्रदूषण के कारण वायु प्रदूषण भी कई बीमारियों जैसे अस्थमा, खांसी आदि का कारण बनता है। प्रदूषण धीरे-धीरे हमारे ग्रह पर एक बड़ी समस्या बनता जा रहा है क्योंकि आज हमारे पास कारखाने और कारखाने चल रहे हैं और अन्य कारखाने खुलेंगे, जिससे हमारे पर्यावरण में और अधिक विषाक्तता और प्रदूषण होगा। जल प्रदूषण और वायु प्रदूषण के साथ-साथ ध्वनि प्रदूषण भी तेजी से बढ़ रहा है शुरू हो गए हैं और यह समस्या धीरे-धीरे विकराल रूप लेती जा रही है।

ध्वनि प्रदूषण लोगों को बहरा या सुनने में कठिन बनाता है, जिसका अर्थ है कि ध्वनि प्रदूषण लोगों की श्रवण हानि को कम करता है। अत्यधिक ध्वनि प्रदूषण अक्सर पक्षियों और जानवरों के लिए समस्या पैदा करता है और कभी-कभी पक्षी मर जाते हैं। आजकल इतने वाहन हैं कि सड़क पर अधिक से अधिक वाहन दौड़ रहे हैं, इसलिए ट्रैफिक बढ़ जाता है और लोग वहां जोर-जोर से हॉर्न बजाने लगते हैं। जिससे ध्वनि प्रदूषण बहुत तेजी से बढ़ रहा है।

यदि हम मनुष्य चाहते हैं, तो हम इन सभी प्रकार के प्रदूषण और भविष्य में आने वाली समस्याओं को भी रोक सकते हैं। यदि आप जल प्रदूषण को रोकना चाहते हैं, तो आपको कारखानों और नदियों और झीलों के जहरीले पदार्थों और रसायनों से स्नान करके और उनके जानवरों को नदियों और समुद्रों में स्नान करके कपड़े धोना चाहिए।

अगर हम इन सब पर रोक लगा दें तो जल प्रदूषण को बढ़ने से रोक सकते हैं।अगर हमें उस प्रदूषण को रोकना है तो हमें सड़कों पर आने वाले वाहनों को भी रोकना होगा और उनकी कारों को रखना होगा ताकि उनकी कारों से और धुआं न निकले।

लोगों को घर पर इस प्रकार के रेफ्रिजरेटर का उपयोग करना बंद कर देना चाहिए ताकि उनका अधिक उपयोग न हो क्योंकि वे वातावरण में विषाक्त पदार्थों को छोड़ते हैं और पर्यावरण को प्रदूषित करते हैं। हवाई जहाजों से वायु प्रदूषण भी बढ़ रहा है, इसलिए हमें जितना हो सके हवाई जहाज का उपयोग करने से बचना चाहिए।

इन सबके अलावा, हमें कारखानों और कारखानों से जहरीले धुएं पर भी प्रतिबंध लगाना होगा, क्योंकि वे बहुत अधिक कोहरे का उत्सर्जन करते हैं, जो सीधे वातावरण में जाता है। और हमारी हवा को प्रदूषित करता है जब हम इन जहरीली गैसों को छोड़ते हैं, तो हम उन्हें शरीर में ले जाते हैं, यानी जब हम सांस लेते हैं, तो कई तरह की बीमारियां सामने आने लगती हैं।

इसलिए हमें वायु प्रदूषण से बचना चाहिए।यदि हम ध्वनि प्रदूषण को रोकना चाहते हैं, तो हम रात में गाने वाली पार्टियों को दंडित कर सकते हैं। सड़क पर वाहनों को भी जल्दी हॉर्न बजाना बंद करना होगा क्योंकि इससे बहुत अधिक ध्वनि प्रदूषण भी होता है। अगर हम ऐसा करते हैं, तो हम बहुत सारे ध्वनि प्रदूषण को रोक सकते हैं।अगर हमें यह सब प्रदूषण रोकना है, तो यह हमारे भविष्य को और समस्याओं से बचा सकता है।

निष्कर्ष

आज इस ब्लॉग में हम आपको pradushan ki samasya par nibandh दिखाएंगे जो मैंने लिखा था। अगर आपको यह विषय pradushan ki samasya par nibandh पसंद आया, तो कृपया कॉमेंट करें। यदि आप इस तरह के किसी अन्य विषय पर निबंध चाहते हैं, तो कृपया कॉमेंट करें और हम उस विषय पर एक ब्लॉग बनाएंगे।

Leave a Comment

x