लाल बहादुर शास्त्री पर निबंध हिन्दी 2022 | Lal Bahadur Shastri Essay In Hindi

नमस्ते दोस्तों ,आज हम इस पोस्ट में लाल बहादुर शास्त्री पर निबंध अर्थात lal bahadur shastri essay in hindi इसके बारे मे जानकारी लेंगे । lal bahadur shastri in hindi essay अर्थात short essay on lal bahadur shastri in hindi यह निबंध हम 100 , 200 और 300 शब्दों में जानेंगे । तो चलिए शुरू करते है essay on lal bahadur shastri in hindi language…..

लाल बहादुर शास्त्री पर निबंध हिन्दी | short essay on lal bahadur shastri in hindi in 100 , 200 and 300 words

लाल बहादुर शास्त्री पर निबंध हिन्दी 100 शब्दों में | lal bahadur shastri essay in hindi in 100 words

लाल बहादुर शास्त्री भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में एक स्वतंत्रता सेनानी और भारत के दूसरे प्रधान मंत्री थे। उनका जन्म 2 अक्टूबर 1904 को उत्तर प्रदेश के मुगलसराय गांव में हुआ था। जब वे केवल डेढ़ वर्ष के थे तब उनके पिता का देहांत हो गया था। उनकी मां रामदुलारी अपने बच्चों के साथ महेरी आई थीं। उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा एक छोटे से गाँव में पूरी की और उच्च माध्यमिक शिक्षा के लिए उन्हें वाराणसी में अपने चाचा के घर भेज दिया गया। लाल बहादुर शास्त्री बहुत विनम्र थे।

आजादी के बाद, उन्होंने कई मंत्री पदों पर कार्य किया और देश के दूसरे प्रधान मंत्री बने। अपनी समर्पित सेवा के दौरान, वह अपनी वफादारी और समानता के लिए लोगों के बीच लोकप्रिय हो गए। उन्होंने देश को ‘जय जवान जय किसान’ का नारा दिया। उन्होंने अपने नेतृत्व में देश को विकास के पथ पर अग्रसर किया। 10 जनवरी 1966 को दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया। देश के लिए उनके अमूल्य कार्यों के लिए उन्हें मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।

लाल बहादुर शास्त्री पर निबंध हिन्दी 200 शब्दों में | lal bahadur shastri essay in hindi in 200 words

लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 2 अक्टूबर 1904 को वाराणसी में एक प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक के यहाँ हुआ था। वह भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में एक स्वतंत्रता सेनानी और भारत गणराज्य के दूसरे प्रधान मंत्री थे। जब वह सिर्फ डेढ़ साल के थे, तब उनके पिता की मृत्यु हो गई, इसलिए उनकी मां रामदुलारी अपने बच्चों के साथ माहेरी आ गईं।

लाल बहादुर शास्त्री ने अपनी प्राथमिक शिक्षा मिर्जापुर में और माध्यमिक शिक्षा वाराणसी में प्राप्त की। 11 साल की उम्र में वे गांधीजी के भाषण से अभिभूत हो गए थे। चंपारण्य सत्याग्रह रॉलेट एक्ट जलियांवाला हत्याकांड की प्रतिक्रिया ने उनके दिमाग में घर बना लिया। शास्त्री जी एक सच्चे गांधीवादी थे जिन्होंने अपना सारा जीवन सादगी से बिताया और इसका इस्तेमाल गरीबों की सेवा में किया।

शैक्षिक और सामाजिक सुधार उनके लक्ष्य थे। 1946 में लाल बहादुर शास्त्री उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। 1951 में, पंडित जवाहरलाल नेहरू और उन्हें कांग्रेस का सदस्य बनाया। 1956 में उन्हें रेल मंत्री का पद दिया गया। 1957 में उन्होंने कांग्रेस का चुनाव जीता। पंडित नेहरू के बाद लाल बहादुर शास्त्री सर्वसम्मति से प्रधानमंत्री बने। 9 जून 1964 को उन्हें प्रधान मंत्री नियुक्त किया गया। 10 जनवरी 1966 को दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया। उनके काम के लिए उन्हें मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। उन्होंने देश को ‘जय जवान जय किसान’ का नारा दिया।

लाल बहादुर शास्त्री पर निबंध हिन्दी 300 शब्दों में | lal bahadur shastri essay in hindi in 300 words

लाल बहादुर शास्त्री भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में एक महान स्वतंत्रता सेनानी और भारत के दूसरे प्रधान मंत्री थे। उनका जन्म 2 अक्टूबर 1956 को उत्तर प्रदेश के मुगलसराय नामक एक छोटे से गाँव में हुआ था। उनके पिता शारदा प्रसाद का निधन तब हो गया था जब वे केवल डेढ़ वर्ष के थे। इसलिए उनकी मां रामदुलारी देवी अपने तीन बच्चों के साथ रहने लगीं। शास्त्री ने अपनी प्राथमिक शिक्षा मिर्जापुर में और माध्यमिक शिक्षा अपने चाचा के घर वाराणसी में प्राप्त की।

लाल बहादुर शास्त्री सामान्य ज्ञान, विवेक और नैतिक मूल्यों के बच्चे थे। जब वे पढ़ रहे थे, गांधीजी के भाषण का उन पर ऐसा प्रभाव पड़ा कि लाल बहादुर शास्त्री ने अपनी शिक्षा छोड़ दी और देश की सेवा करने का फैसला किया। बड़े होकर, लाल बहादुर शास्त्री की भारत के स्वतंत्रता संग्राम में रुचि हो गई। उन्होंने वाराणसी काशी विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया, जिसे ब्रिटिश शासन का विरोध करने के लिए स्थापित किया गया था। उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम में कई अभियानों का नेतृत्व किया और कुल सात साल ब्रिटिश जेलों में बिताए। वह भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की सभी महत्वपूर्ण घटनाओं और आंदोलनों में सक्रिय रूप से शामिल थे।

लाल बहादुर शास्त्री पर निबंध हिन्दी 2021 | Lal Bahadur Shastri Essay In Hindi

स्वतंत्रता संग्राम में उन्होंने जो भूमिकाएँ निभाईं उनमें 1921 का असहयोग आंदोलन, 1930 का दांडी मार्च और 1942 का भारत छोड़ो आंदोलन शामिल थे। बाद में, शास्त्री ने पंडित जवाहरलाल नेहरू के साथ काम करना शुरू किया। उन्हें स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल होने के कारण जेल में डाल दिया गया था। आजादी के बाद वे उत्तर प्रदेश के गृह मंत्री बने। वह बाद में भारत के रेल मंत्री और बाद में भारत के प्रधान मंत्री बने। उन्होंने 30 से अधिक वर्षों तक देश की सेवा की।

अपने काम के प्रति उनके अद्वितीय समर्पण ने उन्हें लोकप्रिय बना दिया। शास्त्री जी के अनुसार स्वतंत्रता की रक्षा की जिम्मेदारी केवल सैनिकों की ही नहीं बल्कि पूरे देश की है। उन्होंने अपने दूरदर्शी रवैये से देश को विकास के पथ पर अग्रसर किया। शास्त्री जी ने राष्ट्र को जय जवान जय किसान मंत्र का जाप किया ताकि यह दिखाया जा सके कि स्वतंत्रता की रक्षा करना और लोगों का पोषण करना कितना महत्वपूर्ण है। ऐसे महान नेता का 11 जनवरी 1966 को निधन हो गया। प्रिय लाल बहादुर शास्त्री को भारत रत्न की सर्वोच्च उपाधि से सम्मानित किया गया। उनका जन्मदिन 2 अक्टूबर हर जगह शास्त्री जयंती के रूप में मनाया जाता है।

निष्कर्ष

आज हमने इस पोस्ट में लाल बहादुर शास्त्री पर निबंध अर्थात lal bahadur shastri essay in hindi इसके बारे मे जानकारी ली । lal bahadur shastri in hindi essay अर्थात short essay on lal bahadur shastri in hindi यह निबंध हम 100 , 200 और 300 शब्दों में जान लिया । अगर आपको इस पोस्ट और वेबसाईट के बारे मे कोई भी शंका हो तो आप हमे कमेन्ट बॉक्स मे कमेन्ट करके बता सकते हो । और hindi essay on lal bahadur shastri यह पोस्ट शेयर करना ना भूले ।

अगर आप ब्लॉगिंग यह मराठी मे अर्थात Blogging In Marathi सीखना चाहते हो तो मराठी जीवन इस वेबसाईट को जरूर विजिट करे ।

Leave a Comment