अगर बारिश ना होती तो पर निबंध हिन्दी 2021 | If There Were No Rain Essay In Hindi

नमस्ते दोस्तों ,आज हम इस पोस्ट में अगर बारिश ना होती तो पर निबंध अर्थात if there were no rain essay in hindi इसके बारे मे जानकारी लेंगे । अगर बारिश ना होती तो पर निबंध अर्थात essay on if there were no rain in hindi यह निबंध हम 100 , 300 और 500 शब्दों में जानेंगे । तो चलिए शुरू करते है |

अगर बारिश ना होती तो पर निबंध हिन्दी | essay on if there were no rain in hindi in 100 , 300 and 500 words

अगर बारिश ना होती तो पर निबंध हिन्दी 100 शब्दों में | if there were no rain essay in hindi in 100 words

जून समाप्त होने के साथ ही बारिश के कोई संकेत नहीं थे। बारिश के बारे में सभी भविष्यवाणियां झूठी थीं। सभी को बारिश का बेसब्री से इंतजार था। निःसंदेह बारिश हुई? तो यह विचार दिमाग में आया और शहर में जान आ गई। अगर बारिश नहीं हुई तो लोगों को काफी परेशानी होगी। मनुष्य का जीवन वर्षा पर निर्भर है।

हमें पीने के लिए पानी चाहिए, नहाने के लिए पानी चाहिए, व्यक्तिगत स्वच्छता के लिए पानी चाहिए, खेती के लिए पानी चाहिए। अगर बारिश नहीं होगी तो कृषि कैसे बढ़ेगी? अनाज कैसे बचेगा? अगर बारिश नहीं हुई, तो आपकी भूख तृप्त नहीं होगी। आपको प्यास नहीं लगेगी। बारिश नहीं हुई तो नदियां सूख जाएंगी। कुएं सूख जाएंगे, पेड़ सूख जाएंगे, बीमारी हर जगह फैल जाएगी, जमीन कट जाएगी, हर जगह रेगिस्तान बन जाएगा। सभी जीवित चीजें संकट में होंगी। अगर बारिश नहीं हुई तो इंद्रधनुष दिखाई नहीं देगा।

हरा-भरा जंगल नहीं दिखेगा। बारिश नहीं होगी, पहाड़ों से झरने नहीं गिरेंगे, बहती नदी नहीं होगी, जीवन की सारी चेतना खो जाएगी। अगर बारिश नहीं होती है, तो आपको इसके बारे में नहीं सोचना चाहिए। मन में विचार आया और वातावरण में अंधेरा छा गया और बारिश होने लगी।

अगर बारिश ना होती तो पर निबंध हिन्दी 300 शब्दों में | if there were no rain essay in hindi in 300 words

बारिश हर किसी की दोस्त होती है। जब वर्षा होती है तो सारी सृष्टि सुखी हो जाती है, पहाड़ हरी चादरों से आच्छादित हो जाते हैं, नदियाँ उमड़ पड़ती हैं और गीली मिट्टी की सुगंध मन को सुकून देती है। हवा को शुद्ध करने वाली और किसानों की बेचैन आत्मा को शांत करने वाली बारिश सभी को प्यारी होती है। यह ठीक है क्योंकि बारिश हो रही है। जबकि पीने के लिए पानी और समृद्ध मानव जीवन है, बारिश नहीं हुई है, लेकिन इन मुद्दों के बारे में सोचते हुए मन थक गया है।

गर्मी की छुट्टियों के बाद हम जिस दोस्त का इंतजार कर रहे थे, अगर वह न आए तो क्या होगा, इसकी कल्पना न करना ही बेहतर है। ये दोस्त जिसे हर साल मिस नहीं किया जा सकता अगर वो इस साल अपने इंतजार को भूल जाए तो यह सोचकर हैरानी होती है कि हम क्या करेंगे। क्या होगा अगर यह कहानी सच हो गई? बारिश हमारे जीवन का एक अमूल्य कारक है। अगर बारिश नहीं हुई, तो पृथ्वी पर पूरा जीवन चक्र बदल जाएगा।

थोड़े ही समय में पृथ्वी का जल समाप्त हो जाएगा, तब न पीने का पानी होगा, न खेती होगी, न अन्न, न पेड़, न ताजी हवा, न जानवर, न पृथ्वी पर जीवन होगा। आज हम इसी दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। मानव बुद्धि के कारण ही आज हमें प्रकृति के कहर का सामना करना पड़ रहा है। जहां भीषण गर्मी है, जहां बेमौसम बारिश के कारण बाढ़ आती है, जहां सूखा सूखा है, जहां गीला सूखा है, अगर हम इस तरह से प्रकृति को नीचा दिखाते रहे, तो हमें और भी भयानक परिणाम भुगतने होंगे।

आज एक दिन में हम तीनों ऋतुओं का आनंद लेते हैं। मेरा मतलब है सुबह ठंड लगना, दोपहर में तेज बारिश, शाम को मूसलाधार बारिश। मानव निर्मित वनों की कटाई के साथ-साथ नदी प्रवाह पर अतिक्रमण और जंगली जानवरों के शिकार ने प्रकृति के पूरे चक्र को बदल दिया है। आज हम देखते हैं कि प्रकृति के गरजते रूप को दिखाना ही एक मात्र और मात्र शुरुआत है।

अगर हम इसी तरह पेड़ों को काटते रहे, प्रदूषित करते रहे, अतिक्रमण करते रहे, तो हम प्रकृति के रूद्र रूप को आमंत्रित कर रहे होंगे। बारिश हमारे लिए सुख-समृद्धि लाती है और हम प्रदूषण परियोजनाएं शुरू करके इसके रास्ते में बाधाएं पैदा कर रहे हैं। देखो, सोचो और तब तक करो जब तक समय है, नहीं तो प्रकृति के इस दुष्चक्र के कारण पृथ्वी पर जीवन नष्ट हो जाएगा।

अगर बारिश ना होती तो पर निबंध हिन्दी 500 शब्दों में | if there were no rain essay in hindi in 500 words

वर्षा में श्रवण सुख के समान आतुर चेतना की धरती माता है। बारिश का इंतजार है। एक बारिश जो सभी को तरोताजा कर देती है और सभी को खुश कर देती है। वह बारिश जो झकझोर देगी और आपको आनंद में डुबा देगी, उसके स्पर्श से जीवन का सोना था। किसान अमृत भोगता है।

चरचारा को एक नई चेतना मिलती है पंचमहाभूतों से हम बने हैं पृथ्वी, आप, प्रकाश, वायु, आकाश। क्या होगा यदि राजा पृथ्वी पर जीवित प्राणियों को जीवन देने के लिए हमसे नाराज हो और बारिश न हो? तो इसे ध्यान में रखना भी एक संकट है। जो तुम्हें जीवित रखता है, यदि वर्षा न हो, तो क्या तुम जीवित रहोगे? अगर हम बारिश नहीं करने का फैसला करते हैं जिससे कृषि बढ़ती है और प्रचुर मात्रा में खाद्यान्न उपलब्ध होता है, तो पूरी दुनिया में अकाल पड़ जाएगा।

अगर बारिश ना होती तो पर निबंध हिन्दी 2021 | If There Were No Rain Essay In Hindi

मनुष्य अनाज के बिना नहीं रह सकता। बारिश के साथ नदियां और नाले उफान पर हैं। यह किसानों को किनारे पर और नागरिकों को जीवन देता है। किनारे के बगीचे खिलते हैं। जंगल जमीन पर खिलता है। क्या होगा यदि विभिन्न पशु पक्षियों को उनके छोटे से घर में खोजने के लिए पानी न हो? तो ये पक्षी पेड़ों में अपना आश्रय खोजने कहाँ गए, पक्षियों को अपने प्यासे चूजों को पानी लाने के लिए पानी कहाँ से मिला? यह किसानों के सामने सबसे बड़ा सवालिया निशान होगा।

यदि वर्षा न हो तो खाद्यान्न का उत्पादन क्या होगा? अगर किसी किसान के पास पानी का भंडार नहीं होगा, तो उसे खाद्यान्न कहाँ से मिलेगा? मनुष्य सबसे पहले अपनी मूलभूत आवश्यकताओं को पूरा करने का प्रयास कर रहा है। अगर आपकी सभी बुनियादी जरूरतें पूरी हो जाती हैं तो वह आपकी माध्यमिक जरूरतों को पूरा करने की कोशिश कर रहा है। लेकिन इसकी कुछ बुनियादी जरूरतें प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से वर्षा पर निर्भर हैं। हमें याद है कि हमारी संस्कृति सिंधु नदी के तट पर पनपी थी।

अर्थात जहां मानव निवास के लिए अनुकूल वातावरण होता है, वहां जल और उसके आवास के बीच घनिष्ठ संबंध होता है। सूखे ने भारत को अपने इतिहास में कई बार त्रस्त किया है। अकाल ने कई लोगों की जान ले ली है। एक बार सूखा आया तो महंगाई और भ्रष्टाचार बढ़ा और अन्य समस्याएं इसमें जुड़ गईं।

बारिश न होने से कितना नुकसान हुआ है। खास बात यह है कि अगर बारिश नहीं हो रही है तो स्कूल जाने वाले बच्चे बारिश के गीत कैसे गा सकते हैं। बताओ भोलानाथ, क्या बारिश होगी, क्या स्कूल के आसपास तालाब रखने से छुट्टी होगी? यह गाना बरसात की छुट्टी लाने का एक मजेदार तरीका है। लेकिन अगर वास्तव में बारिश नहीं होती है, तो विचार आपको पसीने से तर कर देता है।

ऐसा लगता है कि जीवन चक्र उलट गया है। लगान के आमिर खान के दिमाग में काले मेघा काले मेघा पानी तो बरसाओ कहने का ख्याल आता है। खेत में काम करने वाला किसान बादलों को निहारता नजर आ रहा है। मैं बरबाद हो गया था। आप वर्षा सिंचित भूमि सहित किसानों के बारे में क्या सोचते हैं? लेकिन सबका दिल धड़क रहा होगा। अकाल पड़ेगा। आप-हमें बारिश नहीं चाहिए ताकि हम उदास गीत गा सकें?

हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि हमारा दोस्त हर साल आए। उसके लिए हम सभी को ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाना चाहिए और उन्हें जीवित रखना चाहिए। तभी हम असली बारिश का स्वागत शुरू करेंगे।

निष्कर्ष

आज हमने इस पोस्ट में अगर बारिश ना होती तो पर निबंध अर्थात if there were no rain essay in hindi इसके बारे मे जानकारी ली । अगर बारिश ना होती तो पर निबंध अर्थात essay on if there were no rain in hindi यह निबंध हम 100 , 300 और 500 शब्दों में जान लिया । अगर आपको इस पोस्ट और वेबसाईट के बारे मे कोई भी शंका हो तो आप हमे कमेन्ट बॉक्स मे कमेन्ट करके बता सकते हो । और यह पोस्ट शेयर करना ना भूले ।

अगर आप ब्लॉगिंग यह मराठी मे अर्थात Blogging In Marathi सीखना चाहते हो तो मराठी जीवन इस वेबसाईट को जरूर विजिट करे ।

Leave a Comment

x