निसर्ग मेरा दोस्त पर निबंध 2021 | Best Essay On Nature In Hindi Language

नमस्कार दोस्तों, इस पोस्ट में हम निसर्ग मेरा दोस्त पर निबंध यानी essay on nature in hindi language के बारे में चर्चा करने जा रहे हैं। nature essay in hindi हम इस निबंध को १००, २०० और ३०० शब्दों में सीखेंगे।

तो चलो शुरू करते है।

निसर्ग मेरा दोस्त पर निबंध | essay on nature in hindi language in 100,200 and 300 words

100 शब्दों में निसर्ग मेरा दोस्त पर निबंध | nature essay in hindi in 100 words

मनुष्य और पशु के बीच एक संबंध है। इंसान ने साबित कर दिया है कि प्यार देने से प्यार बढ़ता है। हम कई त्यौहार मनाते हैं और खुश महसूस करते हैं लेकिन उनमें। बहुत सारे त्यौहार जानवरों और पौधों पर निर्भर करते हैं। हम इस अनोखी और बेहद खूबसूरत परंपरा को जानते हैं। इसके माध्यम से हम प्रकृति के करीब आते हैं और महसूस करते हैं कि हम प्रकृति का एक तत्व हैं।

मनुष्य इस धरती पर अकेला नहीं रह सकता, उसे एक साथी की जरूरत है। जो मन की बात सुनता है वह अपने साथी की तलाश में रहता है, तो कभी अलग-अलग मानवीय रिश्तों से खोजता है तो कभी जानवरों से। मनुष्य के भीतर का मनुष्य इस संसार से बहुत प्रेम करता है। इस दुनिया में हर कोई सोचता है कि वह हमारा है। अपने सुख-दुख के पलों को साझा करने के लिए।

लेकिन जब मनुष्य मनुष्य की संगति छोड़ता है, तो मनुष्य मनुष्य से दूर चला जाता है, और जब मनुष्य वास्तव में अकेला होता है, तो वह मनुष्य को प्रकृति के करीब लाता है। पौधे, जानवर उससे प्यार करते हैं और मनुष्य के एकांत को समाप्त करते हैं, उसे जीने की नई प्रेरणा देते हैं और उसे इस दुनिया में रहते हुए जीना सिखाते हैं। जब से हम इस दुनिया में आए हैं, प्रकृति हमारी रक्षा कर रही है।

इसे भी पढ़ें : Ideal Citizen Essay In Hindi

200 शब्दों में निसर्ग मेरा दोस्त पर निबंध | nature essay in hindi in 200 words

जो हमें ज्ञान सिखाता है और अज्ञान के अंधकार से ज्ञान के प्रकाश में लाता है, वह गुरु है और प्रकृति क्या है? तो सूर्य, चंद्रमा, नदी, वृक्ष, पशु, पक्षी, समुद्र हमारे चारों ओर प्रकृति हैं। प्रकृति हमें बहुत कुछ देती है। जैसे पेड़ हमें छाया, फल, फूल देता है। चहकते पंछी आपको खुश कर देते हैं।

हम ऐसी सुंदर जगह में उत्साहित हो जाते हैं। यानी प्रकृति मनुष्य को मोहित करने का साधन है। वहीं प्रकृति हमें इंसान बनकर जीना सिखाती है। मनुष्य भाग्यशाली है कि उसे प्रकृति जैसा मित्र मिला है। प्रकृति ने हमारी मानव जाति को जन्म दिया है। वह हमें हवा, पानी, भोजन और सब कुछ देता है।

बदले में वह आपसे कोई कीमत नहीं मांगता। प्रकृति बहुत दयालु है। वह लोगों के लिए हमारे पास जो कुछ भी है उसे बर्बाद कर देता है। प्रकृति भी पूर्वजों की मित्र है। अतीत के संतों ने अपना पूरा जीवन प्रकृति की संगति में बिताया। संत तुकाराम महाराज ने प्रकृति को वृक्षवल्ली सगेसोयरे कहा है। प्रकृति के पेड़ हमें कृतज्ञ बनाते हैं।

फूल आपको दूसरों को खुश करना सिखाते हैं। नदियाँ हमें शांत रहना सिखाती हैं। पक्षी हमें सिखाते हैं कि कैसे विपत्ति से उबरना है और कैसे खुश रहना है। लेकिन बढ़ते प्रदूषण के कारण हम अपने मित्र, गुरु, प्रकृति को नीचा दिखा रहे हैं। हम सभी को अपनी सुंदर प्रकृति की रक्षा के लिए संकल्पित होना चाहिए।

300 शब्दो में निसर्ग मेरा दोस्त पर निबंध | essay on nature in hindi language in 300 words

प्रकृति ने हमें हमारे जीवन में सभी आवश्यक चीजें प्रदान की हैं। लकड़ी, खाद्यान्न, वस्त्र, भूमि, वायु, जल, भोजन और आश्रय ऐसे प्राकृतिक संसाधन हैं जिनका उपयोग हम अपने दैनिक जीवन में करते हैं। लेकिन हमें प्रकृति का भी ध्यान रखना होगा। अगर हम प्रकृति का अपमान करें तो वह क्रोधित हो सकती है। सुनामी, भूकंप, भारी बारिश, सूखा पड़ सकता है। प्रकृति हमारी गुरु है, उसने इस दुनिया को इतना सुंदर बनाया है कि हम इसे जीवन में हमेशा इस्तेमाल करते हैं।

निसर्ग मेरा दोस्त पर निबंध 2021 | Best Essay On Nature In Hindi Language

इंसानों के पैदा होने से पहले। उन्होंने प्रकृति का भरपूर लाभ उठाया। उन्होंने उस पर पत्थर रगड़ कर आग लगा दी। वह जंगल में पाए जाने वाले फल खाकर जीवन यापन करता था। पेड़ की डालियों से औजार बनाते थे, सूखे काँटों से जिनका वे शिकार करते थे। पानी के माध्यम से यात्रा करने के लिए पेड़ों से छोटी नावें बनाईं। उसने उस पेड़ से पहिए बनाए और लकड़ी की गाड़ियां बनाईं जो एक जगह से दूसरी जगह जाने के काम आती थीं। प्रकृति ने हमें बहुत से उपहार दिए हैं।

मैं उन्हें अपना गुरु मानता हूं। इसलिए हम अपना घर, रसोई के बर्तन और यहां तक ​​कि कागज बनाने के लिए प्रकृति की लकड़ी का उपयोग करते हैं और ये किताबें लकड़ी से बनाई जाती हैं। अगर पेड़ नहीं होते तो हमें ये चीजें नहीं मिलतीं। इस भूमि पर इतने बड़े भवन बनाकर भूमि का क्षरण किया गया। क्या आप कभी जान पाएंगे कि पेड़ों को काटने से पर्यावरण पर कितना बुरा असर पड़ता है?

कुछ दिनों के बाद आपको सांस लेने में मुश्किल होगी। इसीलिए आज हर जगह पेड़ लगाने के कार्यक्रम हो रहे हैं। चार महीने बारिश होती है लेकिन जमीन हमारे पेट में पानी जमा कर देती है। तो पेड़ पूरे बारह महीने हरे रहते हैं। यदि भूजल सूख जाता है, तो भूमि जल्द ही सूखे और जीवन के नुकसान से ग्रस्त हो जाएगी। इसलिए इस बात का सभी को ध्यान रखना चाहिए।

प्रकृति मेरी गुरु है क्योंकि वह हर मौसम की तरह अपना रूप बदलकर हमें खुश रखती है और हमारे लिए उपयोगी चीजों का योगदान करती है। वह कभी नहीं थकता। चांद और सूरज हमेशा अपना काम करते हैं, इसलिए मैं उन्हें अपना गुरु मानता हूं।

निष्कर्ष :

दोस्तो मैं अभी आप को सिखाया essay on nature in hindi language । अगर आप को अन्य किसी विषय पर निबंध चाहिए तो उसके लिए हमे कमेंट करे।essay on nature in hindi language यह विषय कैसा लगा इसे भी कॉमेंट कर के बताए अगर पसंद आया हो तो अपने दोस्तो को भी शेयर करे।

Leave a Comment

x