मेरा प्रिय शौक पर निबंध हिन्दी 2022 | Essay On My Favourite Hobby In Hindi

नमस्ते दोस्तों ,आज हम इस पोस्ट में मेरा प्रिय शौक पर निबंध अर्थात essay on my favourite hobby in hindi इसके बारे मे जानकारी लेंगे । मेरा प्रिय शौक पर निबंध अर्थात my favourite hobby essay in hindi यह निबंध हम 100 , 300 और 500 शब्दों में जानेंगे । तो चलिए शुरू करते है |

मेरा प्रिय शौक पर निबंध हिन्दी | essay on my favourite hobby in hindi | my favourite hobby essay in hindi in 100 , 300 and 500 words

मेरा प्रिय शौक पर निबंध हिन्दी 100 शब्दों में | essay on my favourite hobby in hindi in 100 words

मेरा पसंदीदा शौक पढ़ना है। मेरे माता-पिता ने मुझे बचपन से पढ़ना सिखाया है। मैं कितना भी पढ़ूं, मैं अपनी पसंदीदा किताबें हर दिन कम से कम एक घंटा पढ़ता हूं। मुझे रोज अखबार पढ़ना अच्छा लगता है। मैंने कई किताबें, कविता किताबें, पत्रिकाएं पढ़ीं। पढ़ने के इसी शौक के चलते बाबा मेरे लिए कई तरह की किताबें लाए हैं। मैंने अपने अध्ययन कक्ष में एक छोटा पुस्तकालय बनाया है। इसमें विभिन्न प्रकार की उपयोगी पुस्तकें हैं।

मेरे पास ज्ञानेश्वरी, भगवत गीता, तुकाराम गाथा, श्याम की माता, रामायण महाभारत आदि हैं। कई किताबों ने मुझे अनमोल विचार दिए हैं। मुझे स्कूल में पढ़ने से बहुत फायदा हुआ है। पढ़ने से मुझे घर की दुनिया का ज्ञान होता है। मैं कहीं भी और कभी भी पढ़ता हूं। पढ़ने से मन हमेशा प्रसन्न रहता है। जीवन में कितनी भी विपत्तियाँ क्यों न आएँ, पढ़ने से हमें यह जानने में मदद मिलती है कि उनसे कैसे निपटा जाए। किताबें मेरी सच्ची मार्गदर्शक और मित्र बन गई हैं। मुझे शब्द पढ़ना बहुत पसंद है। मैं इसे जीवन भर संजो कर रखूंगा।

मेरा देश भारत पर निबंध हिन्दी 300 शब्दों में | mera desh essay in hindi in 300 words

शौक एक पोषित शौक है। हर किसी के कुछ न कुछ शौक होते हैं। सभी के अलग-अलग शौक होते हैं जैसे पढ़ना, गाना, तबला, वादन। आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में हर किसी के अपने-अपने शौक होते हैं। और आनंद ले रहे हैं। वैसे ही मेरा शौक बागवानी है। मैं बचपन से ही प्रकृति के पेड़-पौधों, पक्षियों, जानवरों, फलों और फूलों पर मोहित रहा हूं। मैंने अपने घर के सामने एक सुंदर बगीचा बनाया है। उस बाग में मैंने तरह-तरह के फल और फूलों के पेड़ लगाए हैं।

मेरा बगीचा रंगीन, सुंदर और विविध फलों से भरा है। मैं बगीचे के सभी पेड़ों की विशेष देखभाल करता हूं। हर शाम सभी पेड़ों को पानी दें। पौधों को सींचने के बाद सारे पौधे खिलते प्रतीत होते हैं और उससे जो सुगंध आती है वह मुझे बहुत प्रसन्न करती है। मेरे बगीचे में मोगरा, जसवंत, गुलाब, चफा, पारिजातक जैसे कई फूल वाले पौधे हैं। प्रातःकाल बगीचे में प्रवेश करते ही अनेक पुष्पों और पतझड़ फूलों की महक से नजारा सुगन्धित हो जाता है।

हम इन फूलों को बगीचे में उबालकर पूजा के लिए इस्तेमाल करते हैं। मेरे बगीचे में आम, चीकू, कस्टर्ड सेब, पेरू के फलों के पेड़ भी हैं। मैंने अपने बगीचे में फल और जड़ी-बूटियों के पौधे भी लगाए हैं। जब मैं बगीचे में काम करता हूं तो मुझे बहुत खुशी होती है। बागवानी मुझे प्रकृति के करीब लाती है। बागवानी करते समय मैं एक सुंदर वातावरण में काम करने के लिए उत्साहित हूं जहां मैं प्रकृति में विभिन्न दलों की आवाज सुन सकता हूं। मैंने बगीचे में जो पेड़ लगाए थे, वे धीरे-धीरे बढ़ रहे हैं। हम जो पेड़ लगाते हैं, उसे उगते हुए देखने का मजा ही कुछ अलग है।

मैं दिन में कम से कम एक बार अपने बगीचे में घूमता हूं। बगीचे में प्रवेश करते ही मेरा मन उत्साहित और प्रफुल्लित था। मुझे बगीचे में ताजी हवा का अहसास होता है। इसलिए मैं रोज बगीचे में जाता हूं। मुझे वहां के शांत वातावरण का अनुभव होता है। इसलिए मुझे लगता है कि बागवानी एक बहुत अच्छा शौक है। यह एक ऐसा शौक है जो प्रकृति संरक्षण में मदद करता है। सभी को बागवानी के प्रति प्रेम पैदा करना चाहिए। मुझे बागवानी से प्यार है ताकि अधिक से अधिक पेड़ लगाए जा सकें, प्रकृति संरक्षण में योगदान दें और हमारे स्वास्थ्य को स्वस्थ रखें।

मेरा देश भारत पर निबंध हिन्दी 500 शब्दों में | mera desh essay in hindi in 500 words

आज की दुनिया में ज्ञान सबसे बड़ी शक्ति है। जीवन में हर किसी के अलग-अलग शौक होते हैं। शौक एक पोषित शौक है। खाली समय में हर कोई अपने-अपने शौक पूरा करता है। हर किसी के अलग-अलग शौक होते हैं जैसे पढ़ना, गाना, डांस करना, पेंटिंग करना। ऐसे शौक आपको एक अलग ऊर्जा और आनंद देते हैं। शौक पैसा कमाना नहीं बल्कि थके हुए शरीर को नई ऊर्जा देना है। कुछ शौक महंगे होते हैं तो कुछ कम कीमत पर।

वे आपको अपने दैनिक जीवन में खुश करते हैं। पढ़ना मेरा पसंदीदा शौक है। लेकिन पढ़ने का महत्व बहुत बड़ा है। पढ़ना इंसान को फिट बनाता है। मुझे बचपन से ही पढ़ने का शौक है। मेरे दादाजी ने मुझमें पढ़ने के प्रति प्रेम पैदा किया। जब मैं छोटा था तो वह मुझे किताबें पढ़ता था। फिर उसने उन चीजों को पढ़ने की मेरी आदत बना ली। मुझे अखबार, पत्रिकाएं, किताबें, उपन्यास और बहुत कुछ पढ़ना पसंद है।

मेरा प्रिय शौक पर निबंध हिन्दी 2021 | Essay On My Favourite Hobby In Hindi

मेरी पसंदीदा किताब श्याम की माँ है जिसे कहानी की किताब में साने गुरुजी ने लिखा है। किताबें हमें ज्ञान देती हैं और नैतिक सलाह भी देती हैं। लेकिन अगर आपकी पसंद अच्छी नहीं है, तो आप पढ़ने का पूरा आनंद नहीं ले पाएंगे। मैं सही सामग्री वाली किताबें नहीं पढ़ता। हमारे स्कूल में एक पुस्तकालय है। शाला की छुट्टी या खाली समय के दौरान हम दोस्त वहां जाते हैं और वहां विभिन्न किताबें पढ़ते हैं। पढ़ने से मेरा ज्ञान बढ़ा है। पढ़ने से मुझे बहुत सारी जानकारी मिलती है। मैं विज्ञान और सूचना प्रौद्योगिकी जैसी कई चीजें समझता हूं।

किताबें मेरे दिमाग को तेज करती हैं और सोच को भी उत्तेजित करती हैं। मुझे लगभग सभी विषयों की किताबें पढ़ना पसंद है। आत्मकथात्मक और सात्विक जानकारी वाली पुस्तकें मुझे अधिक आकर्षित करती हैं। इसके अलावा, मुझे यात्रा पर किताबें पढ़ना पसंद है। वे मुझे दुनिया भर में ले जाते हैं। महान लेखकों की पुस्तकें मुझे ज्ञान देती हैं। एक बार पढ़ने के बाद अगर किताब समझ में नहीं आती है तो मैं उसे बार-बार पढ़ता हूं। महान लेखकों की किताबें आपकी प्रतिभा को चुनौती देती हैं और आपको सोचने पर मजबूर करती हैं।

घर पर भी मैंने अपनी लाइब्रेरी बनाई है। मेरे पढ़ने के शौक के कारण बाबा मेरे लिए बहुत सी किताबें लाए हैं। मेरे पास हर तरह की किताबों का संग्रह है। इसलिए हर दिन स्कूल के बाद मैं एक किताब पढ़ता हूं। मैं पढ़ने से कभी बोर नहीं होता। यात्रा के दौरान किताबें हमेशा मेरे साथ रहती हैं। मैं स्कूल की छुट्टियों के दौरान दिन में कुछ घंटे किताबें पढ़ता हूं। पुस्तक पढ़कर मन प्रसन्न और प्रफुल्लित हुआ।

तो न केवल मेरा ज्ञान बढ़ा है बल्कि मेरी एकाग्रता भी बढ़ी है और यह एकाग्रता मेरे अध्ययन के लिए उपयोगी है। मैं कोई भी काम करते समय एकाग्रता के साथ करता हूं। इसलिए सभी काम हमेशा सही तरीके से होते हैं। पुस्तक मानव व्यक्तित्व को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। पुस्तकें वास्तव में हमारी सबसे प्रिय मित्र हैं। शौक पढ़ना पसंद करने वाले लोग कभी अकेले नहीं होते। आखिरकार, इसमें कोई शक नहीं कि किताबें पढ़ना सबसे अच्छा शौक है। पढ़ने ने मुझे पाला है।

पढ़ने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आपको घर से हजारों मील दूर जानकारी मिलती है। बुद्धि को चुनौती देने वाली पुस्तकें पढ़ने से बुद्धि भी तेज होती है। पढ़ने का यह शौक मुझे हमेशा खुश करता है। किताबों के दाम दिन-ब-दिन बढ़ते जा रहे हैं। लेकिन हम पुस्तकालय जा सकते हैं और किताबें पढ़ सकते हैं। इसे पढ़ने के लिए और कुछ नहीं चाहिए, बस पढ़ना पसंद है। यह मुझे जीवन के दैनिक पीस के माध्यम से शांत करता है और मुझे मन की शांति देता है इसलिए मैं जीवन भर इस शौक को जारी रखूंगा।

निष्कर्ष

आज हमने इस पोस्ट में मेरा प्रिय शौक पर निबंध अर्थात essay on my favourite hobby in hindi इसके बारे मे जानकारी ली । मेरा प्रिय शौक पर निबंध अर्थात my favourite hobby essay in hindi यह निबंध हम 100 , 300 और 500 शब्दों में जान लिया । अगर आपको इस पोस्ट और वेबसाईट के बारे मे कोई भी शंका हो तो आप हमे कमेन्ट बॉक्स मे कमेन्ट करके बता सकते हो । और यह पोस्ट शेयर करना ना भूले ।

अगर आप ब्लॉगिंग यह मराठी मे अर्थात Blogging In Marathi सीखना चाहते हो तो मराठी जीवन इस वेबसाईट को जरूर विजिट करे ।

Leave a Comment